Router Kya Hota Hai

Router Kya Hota Hai ? राउटर कैसे काम करता है ? Full Information

Router In Hindi (राउटर डिवाइस क्या होता है)

हेलो दोस्तों Techno Ganpat ब्लॉग में आपका स्वागत है. आज हम Router Kya Hota Hai यानि राउटर क्या है और राउटर कैसे काम करता है. के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे. सभी के मन में ये सवाल जरूर उठता होगा कि What is Router in Hindi. आपने राउटर का नाम तो जरूर सुना होगा. आज के इस Digital जमाने में Internet का उपयोग करने के लिए इस Device का इस्तेमाल होता है.

Router Kya Hota Hai
Router Kya Hota Hai

हम Internet दो तरीके से चलाते है. पहला हम SIM (Subscriber identity module) की internet connectivity के द्वारा चलाते है. और दूसरा ये है कि Wifi Router के द्वारा Internet Connectivity से चलाते है. SIM को हम मोबाइल में डाल कर कई भी बैठे इन्टरनेट का उपयोग कर सकते है. जबकि Wifi Router को Connect करने का Area Fix होता है.

Router Kya Hota Hai (राउटर क्या है)

राउटर की परिभाषा : Router एक Computer Network Device होता है. जो नेटवर्क में डाटा को एक स्थान से दूसरे स्थान भेजने का काम करता है. इसकी यही प्रकिया Routing(राउटिंग) कहलाती है. यानि राउटर दो या से अधिक Networks को जोड़ने का काम करता है.

Router वे छोटे Electronic Device होते है. जो Computer नेटवर्क से Wired या Wireless के द्वारा Connect होते है. यानि राउटर एक Computer Network को Internet से Connect करने का कार्य करता है. या फिर राउटर एक computer network को दूसरे कंप्यूटर नेटवर्क से कनेक्ट करने कार्य करता है. यही Router Definition in हिंदी है. अब तो आप समझ ही चुके होंगे कि Router Kya Hota Hai (राउटर क्या होता है).

Router Meaning in Hindi (Router Kya Hota Hai)

राउटर मींनिंग हिंदी में: यह एक Hardware Networking Device है. इस Device का Use नेटवर्क में तब किया जाता है. जब कोई Data Packet के रूप में एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क के बीच चल रहा होता है. Router उस Data के Packet को Receive करता है. और फिर उसमें जो Hidden Information होती है . उस सुचना को Analyze करके Destination Device को Send यानि Forward करता है.

यह कार्य Router को नेटवर्क से Wire या फिर Wireless से Connect करके किया जाता है. इस वायरलेस को हम Wireless Router भी कह सकते है. मेरे ख्याल आप Router Meaning in Hindi के बारे अच्छे से समझ चुके है. तथा Router Kya Hota Hai ये भी समझ में आ गया है. अब आप Router Ke Prakar कौंन-कौनसे है जाने.

Types of Router In Hindi (Router Kya Hota Hai)

राउटर के प्रकार (type of router) : Router के कई प्रकार होते है. जिनमे से Main Types के बारे में हम बताएंगे. इसके प्रकार को तीन भागों में बांटा गया है. जो इस प्रकार से है.
Broadband Routers (ब्रॉडबैंड राउटर)
Wireless Routers (वायरलेस राउटर)
Others (अन्य प्रकार के राउटर)

Broadband Routers in Hindi (ब्रॉडबैंड राउटर क्या है)

ब्रॉडबैंड राउटर का इस्तेमाल कई कार्यो में किया जाता है. जैसे एक कंप्यूटर नेटवर्क को दूसरे कंप्यूटर से जोड़ने के लिए इसका उपयोग कर सकते है. तथा Broadband Router का इस्तेमाल Internet से Connect होने के लिए भी किया जाता है. अगर हम Mobile में Internet से जुड़ते है. तथा Voice over IP technology (VOIP) का इस्तेमाल करते है. तो हमें ब्रॉडबैंड राउटर की जरुरत पड़ती है.

यह राउटर घरेलु उपयोग के लिए बनाये जाते है. इस प्रकार राउटर High Speed Internet प्रदान करते है. Broadband Router कंप्यूटर से केबल के माध्यम से connect किये जाते है. तथा इसके लिए ethernet (ईथरनेट) नाम की Cable का उपयोग किया जाता है. इस प्रकार के राउटर को हम Wired Router भी कह सकते है.

Wireless Router In Hindi (वायरलेस राउटर क्या है)

वायरलेस राउटर के नाम से ही हम समझ सकते है. कि इससे Without Cable Internet Connection प्रदान करते है. Wireless Router का इस्तेमाल आज बहुत अधिक होने लगा है. आज हर घर, ऑफिस, स्कूल, कॉलेज में इसका इस्तेमाल होता है. इस प्रकार राउटर से हम एक निश्चित सिमा के भीतर ही Mobile या Computer को Wireless Router से Connect करके इन्टरनेट चला सकते है.

Others Routers (अन्य प्रकार के राउटर)

Inter Provider Border Router in Hindi

ये राउटर Network के लिए Monitor है. क्योंकि इंटर प्रोवाइडर बॉर्डर राउटर को ISPs से जोड़ा जाता है. Inter Provider Border Router BGP Session को बनाये रखता है. Example : वोडाफ़ोन को जियो से जोड़ता है तथा एयरटेल को रिलायंस के साथ जोड़ता है.

Edge Router in Hindi

ये एक विशेष प्रकार का राउटर होता है. ऐसे राउटर को इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) के किनारे रखा जाता है. इस राउटर का उपयोग External Network को अपने Network के साथ Connect करने के लिए किया जाता है. Example के लिए WAN (Wide Area Network) या इन्टरनेट. External Broad Protocol का उपयोग भी इसी Edge Router के द्वारा ही किया जाता है. इस Router का सबसे अधिक Remote Protocol के साथ Connectivity करने के लिए किया जाता है.

Subscriber Edge Router in Hindi

Subscriber Edge Router End User (Enterprise) संगठन की श्रेणी में आता है. यह External BGP को अपने Provider के AS (S) में Broadcast करने के लिए Configure किया गया है.

Core Router in Hindi

इस प्रकार के राउटर का उपयोग अलग अलग जगहों पर स्थित राउटर आपस में जोड़ने के लिए किया जाता हैं. यह Router LAN Network (Local Area Network) के Backbone की तरह होता है. ये Router का काम करता है. इसे Core Router कहा जाता है. Core Router एक Wired या Wireless Router है. जो एक Network के भीतर Internet Data Packet वितरित करता है.

Routing Table in Hindi (Routing Table क्या है)

राउटिंग टेबल एक Rules का सेट होता है. जिसे अक्सर टेबल प्रारूप के रूप देखा जाता है. जिसका Use यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है. कि Internet Protocol (IP) Network पर यात्रा करने वाले Data Packet कहाँ निर्देशित किए जाएंगे. सभी IP-सक्षम Device, जिनमें Router और Switch शामिल हैं. Routing Table का Use करते हैं.

Basic Routing Table में निम्नलिखित जानकारी शामिल की जाती है.

  • Destination – पैकेट को किस Destination में भेजना है उसका IP Address.
  • Next Hop – Next Networking Device का IP Address.
  • Interface – पैकेट को जिस नेटवर्क में भेजा है उस Outgoing Interface की Information होती है.
  • Metric – Metric का एक General Use Network ID में न्यूनतम संख्या में Hops (राउटर को पार करना) को Indicate करना है.
  • Subnet Mask – Network ID के लिए एक Destination IP Address से Match करने के लिए Use किया जाता है.

इस टेबल को हम मैन्युअली या Dynamically Maintain कर सकते है. Dynamic Routing में आसपास के Network Topology की जानकारी आदान प्रदान करने के लिए, Routing Protocol का Use करके अपनी स्वचालित Routing Table का निर्माण करता है. ये Routing Table Device को सुनने की अनुमति देता है. Static Network Device Table को तब तक नहीं बदलता है. जब तक Administrator खुद नहीं बदलता है.

Components of Routers (राउटर के अवयव)

वैसे राउटर के अलग अलग कई अवयव है. जिनमे से निम्न Important अवयव है.

CPU (Central Processing Unit)
RAM (Rendam Access Memory)
Non Volatile RAM
ROM
Flash Memory
Network Interface
Console
Virtual terminals

CPU ( केंद्रीय संशाधन इकाई )

सीपीयू का पूरा नाम CPU – Central Processing Unit होता है. लगभग सभी Electronic Device में इसका उपयोग होता है. राउटर में इसका कार्य सभी Componants को Manage करना होता है.

RAM (Rendam Access Memory)

Router में रैम का कार्य Routing Table को Store करना होता है. और साथ में Configuration Files, Caching And Buffering Details भी होता है. राउटर में Switch Off और Switch On में भी इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है. RAM में ARP Tables, Routing tables, Routing metrics और दुसरे Data store किया जाता है.

ROM (Read Only Memory)

रोम राउटर में Bootstrap Details को Store करने के साथ-साथ Operating System Software को Store करता है.

Non Volatile RAM

ये Permanant Memory होती है. इसमें Operating System का Backup तथा Startup Version Store किया जाता है. जब Router को Boot किया जाता है तो Program इसी Memory से Load होता है.

Flash Memory

राउटर में Flash Memory का काम Routing algorithm, Routing Protocol, Routing Table Store करना होता है.

Network Interface

राउटर में बहुत अधिक Network Interface होते है. जिनका के Router को Network से Connect करना होता है.

Console

कंसोल का कार्य राउटर को Manage करने तथा Configuration करना होता है. तथा troubleshooting commands भी console द्वारा ही दिया जाता है.

राउटर के उपयोग क्या है (Use of Router In Hindi)

यह एक Hardware Network है. जिसका उपयोग Network share करने के लिए किया जाता है. यह लोकल एरिया नेटवर्क को Broadcast करने से रोकने का कार्य कार्य है. Protocol Translation में भी काफी मददगार है. Router दो या अधिक Network को आपस में जोड़ने का कार्य करता है. राउटर Broadcast Domain का निर्माण करके Network Traffic को कम करने में सहायक है.

राउटर कैसे काम करता है (How Router Work in Hindi)

क्या आपको पता है कि Router Kaise Kaam Karta Hai. जब आप अपना Internet Browser Open करते है. तो हमारी Website खोलने के लिए आप ब्राउज़र में WWW.TECHNOGANPAT. IN Type करते है. तो आपका Computer अनुरोधित File को प्राप्त करने के लिए एक Data Packet भेजता है.

ये Data Packet आपके Computer से आपके Router तक जाता है. राउटर फिर उस Data Packet को Modem में भेजता है. फिर मॉडेम Techno Ganpat Website Server को खोजने के लिए Information भेजता है. जो एक राउटर द्वारा Internet से जुड़ा है.

Data Packet यब Router तक पहुँच जायेगा. टेक्नो गणपत Server और उस राउटर को एक File मिलेगी जिसे अनुरोध किया है. इस फ़ाइल को फिर आपके राउटर में वापस भेज देते है. जो बाद में आपके Computer पर भेज देता है. यह कार्य पलक झपकते ही कर दिया जाता है.
तो दोस्तों अब आप समझ ही चुके होंगे कि राउटर कैसे काम करता है (Router Kaise Kaam Karta Hai).

History of Router in Hindi (राउटर का इतिहास)

International Network Working Group नाम की एक Organization ने सन 1974 में पहला राउटर बनाया. जिसे पहले Gateway कहा जाता था. 1970 से 1980 के दशक तक Router का इस्तेमाल Mini Computer में किया जाता था.

आज के राउटर काफी High Speed वाले है. Data Packet Forwording के लिए External Hardware वाले Computer और Encryption जैसे Special Security Function हैं.

Router Vs Modem (राउटर एवं मॉडेम के बीच अंतर)

जैसा कि हमने कहा, राउटर Network के आसपास और Internet से Data Packet ले जाते हैं. लेकिन Modem और Router का से अक्सर एक-दूसरे के लिए किया जाता है. आपको Internet Access देने का कार्य Modem का है।

एक Modem मुख्य रूप से आपके Network से Data Packet लेता है. और उन्हें Ethernet से Electric Currents में Transfer करता है. ताकि उन्हें Internet के आसपास या तो Cable या Satallite द्वारा Transfer किया जा सके.

Wire Vs Wireless Router (वायर और वायरलेस राउटर में अंतर)

जैसा कि हमने पहले ही बता दिया है. कि राउटर दो प्रकार के होते है. Wire और Wireless राऊटर इन दोनों में अंतर होता है. वो निम्न है.

  1. इस राउटर के Network में संचार केबल से होता है. Wireless Router के Network में संचार बिना किसी Cable के होता है.
  2. Wired Router की कीमत कम होती है. But वायरलेस नेटवर्क बहुत ज्यादा खर्चीला होता है.
  3. वायर्ड नेटवर्क सुरक्षित होता है.But वायरलेस कम सुरक्षित होता है.
  4. Wired Network की Performance अच्छी होती है. Wireless नेटवर्क की Performance वायर्ड नेटवर्क के मुकाबले कम अच्छी होती है.
  5. वायर्ड नेटवर्क की installation मुश्किल आती है. जबकि वायरलेस का इंस्टालेशन आसान होता है.

Consulation:

इस पोस्ट को पढ़ आप जान चुके होंगे की Router Kya Hota Hai. (राउटर क्या है) और राउटर कैसे काम करता है ? साथ ही Router Meaning in Hindi में जाना.

आज आप जाने कि राउटर क्या है (What is Router in Hindi) और काम कैसे करता है. आपसे यही उमीद है ये Post पसंद आया होगा. कैसा लगा आप जरुर निचे बताइए. अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे. कोई सुझाव या सलाह देना चाहते हो तो जरुर दीजिये kyon हमारे लिए काफी Useful होगी. हमारे Blog को अभी तक अगर आप Subscribe नहीं किये हैं तो जरुर Subscribe करें. ताकि हमारी जानकरी आपको सबसे पहले मिले. धन्यवाद.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: