सर्च इंजन क्या है ? इसके प्रकार एवं उदाहरण -Top 15 Search Engine

आप रोज इंटरनेट से नई जानकारी खोजते है. आपके दोस्तो को किसी प्रश्न का उत्तर नहीं आता है तो आप उसे बोल देते है कि गूगल में सर्च करले. लेकिन कभी आपने ये जानने की कोशिश की कि ये सर्च इंजन क्या है? (What is Search Engine in hindi). सर्च इंजन का इतिहास क्या है? सर्च इंजन के उपयोग क्या है? या फिर ये सर्च इंजन कैसे काम करता है? आदि.

सर्च इंजन क्या है
सर्च इंजन क्या है

पुराने समय में जब कोई सवाल का जबाव नहीं पता होता तो वे उस का जवाब पाने के लिए बड़े बुजुर्गों से पूछते थे. बड़े बुजुर्ग उस सवाल का जवाब तो देते थे लेकिन वह एकदम सटीक नहीं होता था. उस समय इंटरनेट तो था नहीं जो सर्च करके खोज ले कि इसका सही उत्तर क्या है. लेकिन अब इस नहीं है क्योंकि आज का जमाना इंटरनेट का जमाना है.

इस जमाने मे हर प्रश्न का जवाब इंटरनेट के पास है वह भी एकदम सटीक और सही. जब भी दो दोस्तों के बीच किसी सवाल को लेकर एग्रीमेन्ट होता है तो वे सीधे search engine से सर्च ही करते है. लेकिन उनको ये नहीं पता कि ये सर्च इंजन क्या होता है(Search Engine Kya Hai) तो चलिए जानते है कि सर्च इंजन क्या है और सर्च इंजन कैसे काम करता है?

सर्च इंजन क्या है? (What is Search Engine ?)

Contents

अपने computer को internet से जोड़कर किसी भी website को देखना तथा उससे information प्राप्त कर बहुत से लोगों का पसंदीदा कार्य है.  बहुत से व्यक्ति अपने निकटतम साइबर कैफे में जाकर घण्टों इंटरनेट पर  Surfing करते है.

लेकिन क्या आप जानते है यही कार्य कुछ लोगों के लिए बेहद कष्टदायक हो सकता है ? जी हां यह सच है तथा ये लोगे वे होते है जिन्हें उन website का पूरा URL (uniform resource locator) पता नहीं होता है , जिनसे जुड़कर वे information प्राप्त करना चाहते है. 

ऐसे लोग घण्टों internet पर surfing करते रहते है लेकिन उस website को नहीं ढूढ़ पाते जहां उन्हें वांछित सूचना मिल सकें. Internet के बढ़ते हुए आकार के साथ – साथ यह समस्या और अधिक गहराती जाती है.  लोगों की आवश्यकता तथा इन्टरनेट के बढ़ते हुए आकार के बीच सामंजस्य बिठाने के लिए एक Automated Search System (स्वचलित खोज प्रणाली) की खोज की गई है.

यह प्रणाली वास्तव में एक प्रोग्राम यानी सॉफ्टवेयर है जो कि प्रयोक्ता द्वारा दिये गये कुछ कुंजी शब्दों(keywords) के आधार पर उस website को ढूढ़ता है जिसमें जिसमें वे सभी कुंजी शब्द (keyword) शामिल है. इन computer software  को सर्च इन्जिन ( Search Engine ) कहा जाता है.

जब इन search engine की सहायता से website या ब्लॉग को ढूढ़ा जाता है तो यह अपने सर्च के परिणाम को भी एक अस्थाई webpage के रूप में show करता है .

इन result वाले webpage में उन सभी वेब पेजों के नाम होते है जिनमें प्रयोक्ता के दिये गये कुंजी शब्दयानि keyword आते है.  ये सभी नाम हाइपर लिंक ( Hyper Link ) के रूप में होते है जिन पर mouse button click  करके पहुंचा जा सकता है.

Internet पर website ढूंढने के लिए बहुत से search engine  उपलब्ध है जो कि users द्वारा दी character string के आधार पर website ढूंढ सकता है. यह कैरेक्टर स्ट्रींग किसी व्यक्ति का नाम , company name  कोई keyword या date आदि कुछ भी हो सकता है.

लेख का नाम सर्च इंजन क्या है
दुनिया का पहला सर्च इंजन आर्ची (Archie) 1990 में बनाया गया
दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन कौनसा है गूगल
सर्च इंजन क्या है

सर्च इंजन का इतिहास (Search Engine History in Hindi)

Search Engine चाहे कोई भी हो उसका एक ही काम होता है और वह  internet पर data search करना तथा स्क्रीन पर display करना. शुरुआत के दिनों में सर्च इंजन कुछ नहीं था सिर्फ एक FTP (File Transfer Protocol) का कलेक्शन था. जो सिर्फ data कलेक्ट करता थे. जितने भी सर्वर एक दुसरे से कनेक्ट थे उनमे से data सर्च करता था.

उस समय के WWW  (world wide web) इंटरनेट से connect होने का  मात्र एक जरिया था. सर्च इंजन को बनाने का मकसद यही था कि वेब सर्वर से फ़ाइल को locate कर सकें क्योंकि उस समय वेबसर्वर और फ़ाइल को locate करना बहुत कठिन था.

दुनिया का पहला सर्च इंजन Alan Emtage ने बनाया. यह सर्च इंजन स्कूल का प्रोजेक्ट था. उस समय Alan Emtage एक McGill University के एक प्रोजेक्ट में इस सर्च इंजन को बनाया था. इस सर्च इंजन को 10 सितंबर 1990 को बनाया गया था. और इसका नाम आर्ची (Archie) रखा गया था. इस सर्च इंजन के बाद दुनिया में कई नए search engine आये जो इस प्रकार से है-

Top 15 Search Engine in World (दुनिया के 15 सबसे बेस्टसर्च इंजन कौनसे हैं?)

  • Google
  • Yahoo
  • Baidu
  • Yandex
  • Web crawler
  • Lycos
  • DuckDuckGo
  • Ask
  • Alta vista
  • Msn
  • Metasearch
  • Bing
  • AOL
  • Wolframalpha
  • Excite
  • Internet Archive

भारत के टॉप 10 सर्च इंजन कौनसे है?

  1. Qmama
  2. 123khoj
  3. Guruji
  4. Epic Search
  5. Gisass
  6. Bilsir
  7. Rediff
  8. Justdial
  9. 13tabs
  10. Neeva
  11. iBharat

सर्च इंजन के उदाहरण (Example of Search Engine in Hindi)

वैसे तो इस दुनिया में आजतक बहुत से सर्च इंजन बने है. लेकिन कुछ ज्यादा पोपुलर है, और वे अभी उपयोग में लिए जा रहे है. उनकी जानकारी आपको बता देते है.

Yahoo

यह सर्च इंजन प्रदर्शित windows से यह display होता है कि यह website search engine के साथ – साथ उपयोगकर्ता की और भी कई service provide करता है जैसे कि यह ई – मेल ( email ) की service provide करता है जिसकी help से एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को किसी भी प्रकार का message चाहे वो text हो , voice हो या image हो को किसी भी समय भेज सकता है .

इसके लिए व्यक्ति का account इस website में होना आवश्यक है.  इस website की एक बहुत ही good service मानी जाती है जिसकी help से व्यक्ति online व्यक्ति से chatting कर सकता है

यह service Yahoo एक बहुत ही important service मानी जाती है .  इसकी help से उपयोगकर्ता किसी भी website को कुछ क्षण में ही ढूंढ सकता है. याहू में कई तरह की सुविधाएं है जैसे आप Shopping, Chatting, Games, Movies, Music, Videos, Greetings, Geo cities, Image आदि सुविधाओं को सर्च कर सकते हैं.

Google

यह सर्च इंजन दुनिया का सबसे ज्यादा उपयोग में लिया जाने वाला सर्च इंजन है. इस सर्च इंजन की शुरुआत 1997 में अमेरिका में की गयी थी. इस सर्च इंजन में आप कुछ भी सर्च कर सकते है.

Web crawler

यह सर्च इंजन आज web पर सबसे पुराने meta search engine में से एक है. कई सालों तक, यह एक मेटासर्च इंजन के रूप में काम करता रहा है.  WebCrawler full text खोज प्रदान करने वाला पहला वेब खोज इंजन था. इस सर्च को बनाने वाला Brian Pinkerton ने April 20, 1994 में इसे बनाया. इसे University of Washington में बनाया गया था.

इस meta search engine में google और yahoo के टॉप सर्च को देख सकते है. इसमे ऑडियो, वीडियो, न्यूज़ आदि सर्च कर सकते है. वेब क्रॉलर दुनिया का पहला सर्च इंजन था

Lycos

ये search और web portal दोनो के काम करता है. इस सर्च इंजन को भी 1994 में बनाया गया था लेकिन इसे  April 13, 1995 को लॉन्च किया गया था. इस सर्च इंजन की शुरुआत Carnegie Mellon University में हुई थी. ये email, Web hosting, Social Networking और Entertainment websites की service provide करता है.

qmamu

यह भारत का सर्च इंजन है. इस सर्च इंजन को 26 जनवरी 2021 को आत्मनिर्भर भारत अभियान से प्रेरित होकर बनाया गया है. इसे advance टेक्नोलॉजी से बनाया गया है. जो लगभग गूगल सर्च इंजन से मिलता जुलता है. इस सर्च इंजन को गुजरात के Nishith Dhanani ने बनाया. इसमे आप ऑडियो, वीडियो, वेबपेज, न्यूज़ आदि कुछ भी सर्च कर सकते है.

DuckDuckGo

यह सर्च इंजन September 25, 2008 में लॉन्च किया गया है. इस सर्च इंजन को बनाने वाला Gabriel Weinberg है.

Yandex

Russia के सबसे popular सर्च इंजन Yandex है. इस सर्च इंजन को खासकर रूसी खोजकर्ताओ के लिए ही बनाया गया है.  इस सर्च इंजन की शुरुआत Arkady valozh और Arkady Borkovsky ने 23 September 1997 में की थी. यह सर्च इंजन के अलावा भी यह कई तरह दूसरी services भी प्रोवाइड करता है.

Baidu

यह सर्च इंजन चीन का खोज इंजन है. यह चीन का लोकल सर्च इंजन है. इस सर्च इंजन की भाषा भी चीनी भाषा ही है. Robin Li द्वारा जनवरी 2000 में इसको शुरु किया गया था. यह सर्च इंजन  गूगल के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बडा सर्च इंजन हैं. इसमें आप वह सभी सर्च कर सकते है जो गूगल में सर्च करते है.

MSN

यह सर्च इंजन किसी भी साइट को search करने के साथ साथ अपने यूज़र्स को कई अन्य सुविधाएं के option भी प्रदान करता है जैसे News, Health, Shopping, Travel, Sports, Money, Games, House & Home, Entertainment, Careers & Job आदि.

Ask

यह सर्च इंजन तो आज भी काफी पॉपुलर है. पहले इसका नाम Ask Jeeves था. इस सर्च इंजन को  June 3, 1996 में बनाया गया था. ये सिर्फ एक question answer सर्च इंजन या वेबसाइट  है. इसको मैंन फोकस E-Business और web search engine पर ही था. इसको बनाने वाले का नाम  Garrett Gruener and David Warthen और Douglas Leeds (CEO) है.

Alta vista

इस सर्च इंजन का मुख्य कार्य किसी वेबसाइट को सर्च करने ही है. यह सर्च इंजन सर्च करने की बहुत सुविधाएं प्रदान करता है जैसे – videos, website, directory, images, mp3/audio, News आदि. यह सर्च इंजन search करने की सुविधाओं के साथ साथ कुछ उपयोगी ऑप्शन्स भी देता है.

जिससे किसी वेबसाइट  क्षण भर में सर्च की जा सकती है. सर्च करने के बाद परिणाम को भी show करता है जिसके लिए यह सभी language की सुविधा देता है.

Metasearch

मेटासर्च (metasearch) बहुत ही छोटा search engine माना जाता है. जो कि कोई और सुविधाएं प्रदान नहीं करता है. इस सर्च इंजन का मुख्य उपयोग Sites को ढूंढने में ही किया जाता है.

सर्च इंजन के प्रकार (Types of Search Engine in Hindi)

Search engine चार प्रकार के होते है जो इस प्रकार से है-

  • Crawler Based Search Engines
  • Web Directories
  • Hybrid Search Engine
  • Meta Search Engine

Crawler Based Search Engine

यह  crawler based search engine डेटाबेस में नई सामग्री को crawling तथा indexing करने के लिये crawler, robot, Spiders और bot प्रोग्राम का उपयोग करते है. इस तरह के सर्च इंजन में google, yahoo, bing, duckduckgo, yandex, ask आदि आते है.

Web Directories

सर्च इन्जिन Software के विपरीत web directories , उन websites का link अपनी directory में store करके रखती है जो कि उन्हें रखने के लिए दी गई है.  दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि वेब डाइरेक्ट्रीयां search engine की भांति सम्पूर्ण वेब ( www ) को ढूंढकर उपलब्ध websites के पते अपने में store करने के बजाय सिर्फ उन website के url store करके रखती है जिन्हें store करने के लिए कहा गया है. 

जब कोई users web directory का use कर किसी website का url मालूम करने की कोशिश करता है तो ये users द्वारा दिये गये keyword को अपनी directory में search करके उस वेबसाईट का url लगाने की कोशिश करते है जिनमें वे keyword पाये जाते है.  उदाहरण के लिए याहू एक ऐसी ही web directory है जिसका खुद का URL – https://www.yahoo.co.in ) है.

Hybrid Search Engine

हाइब्रिड की श्रेणी में उन websites को शामिल किया जा सकता है जिनमें search engine तथा web directories दोनों के गुण पाये जाते है । अर्थात् ये Active रूप में पूरे www में खोजते है तथा इनके पास अपनी Directories भी होती है जिसमें से भी अपनी search कर सकते है infoseek एक ऐसी ही सर्च साईट का उदाहरण है जिसका URL – https://www.infoseek.com है.

Metasearch Engine

मेटासर्च इंजन उन सर्च इंजन को कहा जाता है जो किसी दूसरे search engine से data लेकर हमारे सामने display कराते हैं. हम जब इसमे कोई keyword (क़वेरी) सर्च करते है तो यह उसे अलग अलग कई सर्च इंजन में सर्च करके उस पर खुद का अल्गोरिथम apply करके हमारे सामने पेश करता है. Metacrawler और dogpile सर्च इंजन इसके उदाहरण है.

सर्च इंजन के उपयोग (use of search engine in hindi)

एक सर्च इंजन के कई उपयोग होते है. जो समय के साथ साथ बढ़ते जा रहे है. आईये सर्च इंजन के उपयोग के बारे में जानते है. शॉपिंग करने के लिए, रिसर्च करने के लिए, मूवी/ वीडियो देखने के लिए, म्यूजिक डाऊनलोड या प्ले करने के लिए, पैसे कमाने के लिए, गेम्स खेलने के लिए आदि कार्यो में सर्च इंजन का उपयोग किया जाता है.

सर्च इंजन कैसे काम करता है ? (How to Work Search Engine in Hindi ?)

वे सभी web server जो search engine की service provide  करते है , अपनी Hard Disk पर एक database store  करके रखते है जहां internet पर उपलब्ध कई संसाधनों के url store  होते है.

Search Engine  users तथा database के मध्य , मध्यस्थ ( interface ) का कार्य करता है । सर्च इन्जिन की सहायता से प्रयोक्ता अपने कुंजी शब्द वेब सर्वर को देकर उसके डाटाबेस में ढूंढ सकता है ।

कुछ सर्च इन्जिन प्रयोक्ता द्वारा दिये गये शब्दों को उस वेब पेज के सिर्फ टाईटल में ढूंढते है तथा कुछ सम्पूर्ण वेब पेज में उन कुंजी शब्दों को ढूंढते है खोज के अंत में परिणाम के रूप में उन वेब साईट के नाम हाइपर लिंक के रूप में प्रदर्शित हो जाते है जिनमें वे कुंजी शब्द मिले है ।


इन हाइपर लिंक पर क्लिक करके हम उन वेब पेजों तक पहुंच सकते है. एक सर्च इंजन निम्न तीन चरणों मे कार्य करता है –

Crawling

Robot  तथा  Spider नाम से भी पहचाने जाने वाला यह एक विशेष program है जो कि लगातार internet के website को scan करता रहता है तथा वहां उपलब्ध information को प्राप्त करता रहता है .  किसी भी webpage से information को एकत्रित करने के बाद Crawling यानी spider वहां मौजूद other  link पर click करके अपनी Searching को आगे बढ़ाता जाता है. 

ये program लगातार web में घूमते रहते है तथा Search Engine की खोज का सरल बनाते है .

Indexing

यह प्रोसेस उस समय होता है जब Crawl होने के बाद data process करके इसे database में रख दिया जाता है. इन्डेक्स एक तरह का  catalog  की तरह work करता है जहां search किये गये web page से प्राप्त information को एकत्रित कर रखा जाता है . Users द्वारा की गई कैरेक्टर स्ट्रींग को इसी Index में सर्च करके  page का link result  स्वरूप display करता है.

Ranking & Retrieval

यह सर्च इंजन का अंतिम स्टेप है. ये स्टेप आजकल बहुत ज्यादा उपयोग में लिया जाता है.  इसमे सर्च इंजन हमारे सर्च किये हुए keyword को process करता है फिर हमारे keyword से सबसे अधिक मिलते जुलते content को हमारे सामने लाकर display करता है. इस प्रोसेस को retrieval कहा जाता है.  हमारे द्वारा सर्च किये जाने वाले कीवर्ड से सबसे अधिक मेलखाते page को display कराने के लिए अरबों खरबों pages को खोजती है. इसे ranking algorithm  भी कहा जाता हैं.

निष्कर्ष:-
इस लेख में आपने जाना कि सर्च इंजन क्या है? सर्च इंजन के प्रकार, सर्च इंजन का इतिहास, सर्च इंजन के उपयोग, सर्च इंजन के उदाहरण आदि के बारे पूरी जानकारी पढ़ी. इसके साथ ही आपने टॉप 15 सर्च इंजन के बारे में पढ़ा.

आशा करता हूँ कि ये लेख आपको बेहद पसंद आया होगा. अगर आपको इस लेख में कोई चीज समझ में नहीं आती हैं तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे. आर्टिकल को अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल में शेयर करें.

दुनिया का सबसे पहला सर्च इंजन कौनसा है?

दुनिया का सबसे पहला सर्च आर्ची (Archie) था जो  10 सितम्बर 1990 को Alan Emtage ने बनाया.

सर्च इंजन कितने होते हैं?

दुनिया में सर्च इंजन बहुत से है जिनमे google, yahoo, bina, ask, yandex duckduckgo आदि प्रमुख हैं.

दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन कौन सा है?

दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल है. इसके बारे में तो आज विश्व में बच्चा बच्चा जानता है.

चीन में कौन सा सर्च इंजन चलता है?

चीन में खुद का ही सर्च इंजन Baidu है. जो सबसे ज्यादा चीन में ही उपयोग में लिया जाता है.

आजकल सर्च इंजन किस प्रकार से चलता है?

ज्यादातर सर्च इंजन रैंकिंग और रिट्रीवल प्रोसेस से चलते है. गूगल भी वर्तमान में इसी प्रोसेस से चलता है.

Leave a Comment